मुख्यमंत्री से मिलने और नौकरी मांगने के लिए बच्चे का अपहरण, 18 घंटे में बरामद

मुख्यमंत्री से मिलने और नौकरी मांगने के लिए बच्चे का अपहरण, 18 घंटे में बरामद

मेरठ में खरखौदा थाना क्षेत्र के जाहिदपुर गांव से आठ साल के बच्चे का अपहरण हो गया। सर्विलांस व पुलिस टीम ने महज 18 घंटे में बच्चे को सकुशल बरामद करते हुए आरोपी पकड़ लिया, जो बर्खास्त होमगार्ड है। खुलासा हुआ कि आरोपी इस बच्चे को अपना बेटा बनाकर लखनऊ में मुख्यमंत्री के सामने पेश करना चाहता था, ताकि उसकी दुहाई देकर नौकरी बहाली की मांग कर सके।

मूल रूप से गांव फफूंडा निवासी रोहित, पत्नी सोनिया व आठ वर्षीय बेटे प्रियांशु के साथ जाहिदपुर गांव में किराये के मकान में रहता है। सोनिया के अनुसार, बुधवार शाम उन्होंने प्रियांशु को घर का गेट बंद करने के लिए बोला। गेट से उसे पड़ोसी सोनू बहला-फुसलाकर साथ ले गया। परिजनों ने आसपास सीसीटीवी कैमरे की फुटेज दिखवाई तो आरोपी बच्चे को ले जाता हुआ कैद हुआ।

बर्खास्त होमगार्ड ने रची साजिश
पुलिस ने तत्काल मुकदमा दर्ज कर बच्चे की खोजबीन शुरू कर दी। परिजनों के हत्या की आशंका जताने पर एसएसपी अजय साहनी ने सर्विलांस टीम को लगाया। सर्विलांस टीम ने गुरुवार दोपहर किला परीक्षितिगढ़ थाना क्षेत्र के ऐंची गांव के समीप से बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया। आरोपी पड़ोसी सोनू को गिरफ्तार कर लिया। वह बर्खास्त होमगार्ड है। एसएसपी ने बच्चा बरामद करने वाली टीम को 20 हजार रुपये से पुरस्कृत किया है।

आरोपी से पत्नी-बच्चे रह रहे अलग
सर्विलांस सेल के मनोज दीक्षित ने बताया कि आरोपी सोनू पूर्व में होमगार्ड जवान था। चार साल पहले बर्खास्त हो गया था। उसके बाद से कोई नौकरी नहीं करता। नशे का आदी हो चुका है। इसके चलते पत्नी व तीन बच्चे अलग रह रहे हैं। सोनू ने पुलिस को बताया कि वह बच्चे को लखनऊ ले जाकर मुख्यमंत्री के समक्ष पेश करना चाहता था। प्रियांशु को अपना बेटा बताकर उसके पालन-पोषण की दुहाई देकर खुद को बहाल करने की मांग करता।

लखनऊ की बजाय प्रयागराज की ट्रेन में बैठा
बुधवार शाम प्रियांशु का अपहरण करने के बाद सोनू उसे लेकर मेरठ सिटी रेलवे स्टेशन पहुंचा। यहां प्रयागराज जाने वाली संगम एक्सप्रेस में बैठ गया। संयोग से वह जिस कोच में बैठा था, वह हापुड़ में ट्रेन से अलग हो गया। ऐसे में रातभर वह रेलवे स्टेशन पर रहा। शुक्रवार सुबह बस से दोनों मेरठ आ गए। सोनू, प्रियांशु को परीक्षितगढ़ के ऐंची गांव में अपने रिश्तेदार के घर लेकर जा रहा था। इस दौरान उसे पकड़ लिया गया।

फेसबुक पेज को लाइक करना बिल्कुल न भूले