टीईटी 7 मार्च को प्रस्तावित, अनुमति का इंतजार, कोरोना के कारण 2020 में नहीं कराई जा सकी शिक्षक पात्रता परीक्षा

टीईटी 7 मार्च को प्रस्तावित, अनुमति का इंतजार, कोरोना के कारण 2020 में नहीं कराई जा सकी शिक्षक पात्रता परीक्षा

साल 2020 की उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी-टीईटी) 7 मार्च को कराने की तैयारी है। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय की ओर से टीईटी का संशोधित प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। पहले फरवरी अंत में परीक्षा कराने का प्रस्ताव भेजा गया था लेकिन शासन से अनुमति मिलने में देर होने से अब 7 मार्च की तिथि प्रस्तावित की गई है। 

सूत्रों के अनुसार 10-15 दिन में अनुमति मिल गई तो ठीक है वर्ना पंचायत चुनाव के बाद टीईटी कराया जा सकेगा। परीक्षा संस्था ने अपनी तैयारी पूरी कर ली है। एनआईसी के अफसरों से वार्ता भी हो चुकी है। शासन की अनुमति मिलने के तुरंत बाद ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। जिसमें तकरीबन एक महीने का समय लगेगा। उसके बाद केंद्र निर्धारण करते हुए परीक्षा कराई जाएगी।
कोरोना महामारी के कारण पिछले साल टीईटी नहीं हो सका था। सीटीईटी की तारीखें फाइनल होने के बाद राज्य सरकार ने भी नवंबर मध्य में टीईटी के लिए अनुमति दे दी थी। 2020 की टीईटी में 10 लाख अभ्यर्थियों के शामिल होने का अनुमान है।

फेसबुक पेज को लाइक करना बिल्कुल न भूले