बर्ड फ्लू की चपेट में आया 7वां राज्य बना उत्तर प्रदेश, जानें बाकी राज्यों का हाल

बर्ड फ्लू की चपेट में आया 7वां राज्य बना उत्तर प्रदेश, जानें बाकी राज्यों का हाल
बर्ड फ्लू की चपेट में आया 7वां राज्य बना उत्तर प्रदेश, जानें बाकी राज्यों का हाल

देश बड़े पैमाने पर बर्ड फ्लू के कहर से डरा हुआ, उत्तर प्रदेश शनिवार को इस बीमारी के प्रकोप की पुष्टि करने वाला सातवां राज्य बन गया। दरअसल, कानपुर चिड़ियाघर को बर्ड फ्लू

image0

 वायरस मिलने के बाद सील कर दिया गया है। चार पक्षियों की मौत की जांच रिपोर्ट में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। कानपुर कमिश्नर राजशेखर के आदेश पर चिड़ियाघर के आस-पास के इलाके को रेड जोन घोषित किया गया है। प्रशासन के साथ इलाके के निवासी भी अलर्ट हो गए हैं।

दोनों पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश और हरियाणा के एवियन इन्फ्लूएंजा से पीड़ित होने के कारण, दिल्ली पहले से ही वीक जोन में है। लगातार कई दिनों तक दिल्ली में विभिन्न स्थानों पर मरने वाले कौवों की संख्या में वृद्धि हुई है।

ऐसे में दिल्ली सरकार ने बर्ड फ्लू के खतरे को देखते हुए तैयारियां भी तेज कर दी हैं। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने बताया कि गाजीपुर पॉल्ट्री फॉर्म 10 दिन के लिए बंद कर दिया गया है। जबकि जिंदा पक्षियों के आयात पर फिलहाल रोक लगा दी गई है। दिल्ली के हर जिले में निगरानी के लिए सर्विलांस टीम बना दी गई है। पशुओं के डॉक्टर लगातार सर्वे कर रहे हैं। संजय झील, भलस्वा झील और पॉल्ट्री मार्केट की निगरानी हो रही है. बता दें कि मरे हुए पक्षियों की जानकारी देने के लिए हेल्पलाइन नंबर 23890318 भी जारी कर दिया गया है। बता दें कि केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, गुजरात पहले से ही बर्डफ्लू की चपेट में हैं।

हिमाचल प्रदेश के पोंग इलाके में बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद हड़कंप है। यहां हर साल प्रवासी पक्षी आते हैं। बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद यहां 3500 प्रवासी पक्षियों को मार दिया गया है। इसके अलावा राजस्थान के 11 जिले बर्ड फ्लू की चपेट में हैं। इनमें सवाई माधोपुर, पाली, दौसा और जैसलमेर भी शामिल हैं। सवाई माधोपुर में मरे कौओं में बर्ड फ्लू का एच 5 स्ट्रेन मिला है।

इंसानों पर बर्ड फ्लू का प्रभाव

बर्ड फ्लू के अधिकांश स्ट्रेन मनुष्यों को प्रभावित नहीं करते हैं। हालांकि, बीमारी संक्रमित के पक्षी मल, नाक, मुंह के जरिए फैल सकती है। केंद्र ने सभी राज्यों को सतर्क रहने और मनुष्यों तक बीमारी की पहुंच की संभावना से बचने के लिए कहा है। कहा जा रहा है कि एक बार पूरी तरह से पकने के बाद मुर्गी या पोल्ट्री डिश खाना भी सुरक्षित है।

फेसबुक पेज को लाइक करना बिल्कुल न भूले