रुकुनपुर-बैखरा की टीम ने दबंग स्पोर्टिंग क्लब अमांवा की टीम को हराकर प्रतियोगिता अपने नाम की

रुकुनपुर-बैखरा की टीम ने दबंग स्पोर्टिंग क्लब अमांवा की टीम को हराकर प्रतियोगिता अपने नाम की

रिपोर्ट-- शिवम अवस्थी

मो-9451782183

महराजगंज रायबरेली--क्षेत्र के बैखरा में आयोजित क्रिकेट प्रतियोगिता का फाइनल मैच शुक्रवार को खेला गया। फाइनल में एबी पब्लिक स्कूल रुकुनपुर-बैखरा की टीम ने दबंग स्पोर्टिंग क्लब अमांवा की टीम को हराकर प्रतियोगिता अपने नाम की।

बताते चलें कि 26 दिसंबर से बैखरा ग्राउंड पर क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में क्षेत्र की आठ टीमों ने प्रतिभाग किया। प्रतियोगिता में एबी पब्लिक स्कूल व दबंग स्पोर्टिंग की टीम ने अपने उत्कृष्ट खेल की बदौलत फाईनल में स्थान बनाया। शुक्रवार को फाइनल में एबी पब्लिक स्कूल के कप्तान ने टास जीता व पहले बैटिंग करने का निर्णय लिया। पहले बैटिंग करते हुए एबी पब्लिक स्कूल के बल्लेबाजों ने धुंआंधार बैटिंग करते हुए 15 ओवर में 6 विकेट के नुकसान पर 164 रन बनाए। जवाब में खेलने उतरी दबंग स्पोर्टिंग क्लब की टीम की बल्लेबाजी दबाव में बिखर गई और निर्धारित ओवरों में 8 विकेट खोकर 84 रन ही बना सकी। इस तरह एबी पब्लिक स्कूल की टीम ने 80 रनों से जीतकर प्रतियोगिता अपने नाम की। फाइनल में मैन आफ दि मैच का पुरुस्कार 58 रन बनाने वाले एबी पब्लिक स्कूल के बल्लेबाज अमित को दिया गया। वहीं तीन मैचों में 12 विकेट व 60 रन बनाकर अपने आलराउंड प्रदर्शन से सभी को प्रभावित करने वाले अमांवा टीम के खिलाड़ी मों० कफील को बेस्ट बालर व मैन आफ दी सिरीज के खिताब से नवाजा गया।विजेता टीम के कप्तान खालिद बेग को आयोजकों ने विजेता ट्राफी व नगद पुरुस्कार तथा दबंग स्पोर्टिंग टीम के कप्तान जीशान को उपविजेता की ट्राफी व नगद धनराशि देकर पुरस्कृत किया। वहीं अन्य खिलाड़ियों को भी आयोजकों ने पुरस्कृत कर उनका उत्साहवर्धन किया। प्रतियोगिता में अनमोल व सर्वेश यादव ने निर्णायक की भूमिका निभाई व सुरेंद्र यादव ने कमेंटेटर की भूमिका अदा की। आयोजक फिरोज खां ने अपने संबोधन में कहा कि ऐसी प्रतियोगिताओं के आयोजन से युवा प्रतिभाओं को आगे आने का मौका मिलता है। इस अवसर पर आरिफ बेग, लल्लू प्रधान, अमरनाथ द्विवेदी, शहबाज खान, सुरेंद्र यादव, सुशील यादव, संतोष सिंह प्रधान, राजू खान प्रधान, आनंद सिंह आदि लोग मौजूद रहे।

फेसबुक पेज को लाइक करना बिल्कुल न भूले